On persistent demand

Jyotishguru Deepak Kapoor

In Mumbai

4th and 5th December 2017

Limited appointments

Call now 9868463900

Sunday, April 16, 2017

Sunday 16th April 2017, Vedic Astrology Forecast, Rashipha

मेष (Aries) – मन घबरा रहा है की जो आप करना चाह रहे हैं क्या वो आप कर पाएंगे, और ज़िन्दगी की यही मानसिक परेशानियाँ हमें रास्ते से भटका देती हैं. एकाग्रचित होकर आगे बढने की ज़रूरत है.
क्या करें – अपनी बात को दृढ़ता से कहें लेकिन मतभेद से बचें. अपने फैसले करते हुए किसी संभावित नुकसान के बारे में पहले सोच लें. ऐसा करने से ही आप अपनी परिस्थिति को बचा पाएंगे.
क्या न करें – घर-परिवार से जुडी चिंताओं को अपने ऊपर हावी न होने दें और ऐसा करते हुए अपने मन को इतना दुखी न कर लें की आप घबरा जाएँ. तेजी से बदलते हुए समय में अपने मन में परेशानियाँ न बढ़ाएं.

वृषभ (Taurus) – लोग आपके लिए मददगार हैं लेकिन आप वो सबकुछ नहीं कर पा रहे जो करना चाह रहे हैं. आपका फोकस भी इसी वजह से कुछ कम ही नजर आ रहा है. घर-परिवार से बनती हुई दूरियां भी आपको परेशान कर सकती हैं.
क्या करें – लोगों से बात करें और सलाह विमर्श कर लें, लेकिन रिश्तों को सँभालने के लिए अपने मन में धैर्य भी बनाये रखें. अपनी इच्छाओं को बहुत ज्यादा बढ़ा लेने से तो बचना ही होगा.
क्या न करें – अपनी मेहनत में किसी भी तरह की कमी न आने दें. लोगों की मदद के भरोसे ही न चलते चले जाएँ, खुद अपने अंदर तो सकारत्मक बदलाव लाने ही होंगे.

मिथुन (Gemini) – आपकी मेहनत जरुर रंग लाएगी लेकिन आपकी बीती यादें आपको परेशान भी करती चली जाएँगी. उन धुंधली पड़ती हुई यादों को कम से कम अपने मन में तरोताजा किया जा सकता है.
क्या करें – विचारों के मतभेद से भी बचना होगा और पैसे के नुकसान से भी बचना होगा. खुद पर भरोसा रखेंगे तो यह सबकुछ करना आसान भी हो जायेगा. आपके अपने आपका हर तरह से साथ निभाएंगे.
क्या न करें – अपने पैसे को किसी भी तरह के खतरे में बिलकुल न डालें. अपनी बचत को भी इस नजरिये से न देखें की कुछ भी अच्छा न लगे. ज़िन्दगी में आशावादी बने रहना बहुत जरूरी है.

कर्क (Cancer) – अपने काम को आगे बढ़ाने के लिए पैसे की भी ज़रूरत पड़ेगी और आपकी मेहनत की भी, लेकिन अपने बदलते हुए विचारों को थामने की और भी ज्यादा ज़रूरत पड़ेगी.
क्या करें – चाहे पढाई – लिखाई हो या आपका कामकाज, अपनी काबलियत को इस्तेमाल करेंगे तो आपको लाभ जरुर होगा. वैसे भी एक सकारत्मक दिशा बनाने की ज़रूरत है.
क्या न करें – रिश्तों में किसी भी तरह का असंतोष न पैदा करें और ऐसा करते हुए किसी भी बात को बिगड़ने भी न दें. हर चीज़ को तकदीर के भरोसे छोड़ते चले जाना भी ठीक नहीं है.

सिंह (Leo) – हालात आपका साथ देना चाह रहे हैं और इसी के चलते आपकी ज़रूरतें भी बखूबी पूरी हो रही हैं. आपका बढ़ता हुआ मनोबल इस समय आपका बहुत बड़ा काम कर सकता है.
क्या करें – जो भी आप कर रहे हैं उसका अच्छा फल मिलने का समय है. आप अपने भरोसे को जगाएं रखें और कामकाज को आगे बढ़ाने का कदम आपके लिए कारगर हो जायेगा.
क्या न करें – इतना भी ज्यादा भावुक न हो की आप परेशान हो जाएं. अपनों के लिए अच्छा सोचना अच्छी बात है, लेकिन अपने मन में बनाई हुई चिंताओं को इतना न बढ़ाएं की वो परेशानी का रूप ले ले.

कन्या (Virgo) – कामकाज से जुडी चुनोतियों को एक-एक करके समझना पड़ेगा, तभी जाकर उन्हें सँभालने की संभावनाएं खुलेंगी. उसमे आपकी अपनी मेहनत की अहम भूमिका जरुर बनेगी.
क्या करें – कामकाज से जुडी परेशानियाँ भी आपको एक नया रास्ता दिखाएंगी. आपकी मेहनत आपके लिए इस समय बहुत कुछ कर सकती है, बस अपने मन के भटकाव पर काबू पाने की ज़रूरत है.
क्या न करें – अपनी ही मेहनत को लेकर सवाल न खड़े करें. अपनी परिस्थिति को किसी भी तरह की कमी की नजर से भी न देखें. पैसे को लेकर भी अपने मन में असंतोष न पैदा करते चले जाएँ.

तुला (Libra) – पैसे को लेकर बहुत सारी बातो को समझना पड़ेगा, बड़ते हुए खर्चों को भी थामना पड़ेगा. किसी भी चीज़ का असर आपकी बचत पर पड़े तो वो ठीक नहीं होगा.
क्या करें – अपने फैसले ध्यानपूर्वक लें. किसी भी नए रास्ते पर चलने से पहले एक बार फिर सोच लें. रिश्तों को सँभालने की भी ज़रूरत पड़ेगी.
क्या न करें – अपनी बचत को किसी भी तरह के खतरे में बिलकुल न डालें. अपने मन की घबराहट को बढ़ाकर आप लोगों से किनारा भी न करते चले जाएँ. आने वाले चार बुधवार को किसी भी पूजास्थल पर जाने से अपने हालात को सँभालने में आपको मदद जरुर मिलेगी.

वृश्चिक (Scorpio) – कामकाज को लेकर भी धैर्य रख लें और अपने पैसे की स्तिथि को लेकर भी. बस यह समझ ले की आपका काम ही आपकी पूजा है, बाकी सारी बातें अपने मन से हटा दें.
क्या करें – लोगों को इज्ज़त भी दें और लोगों से जुड़ें भी रहें. अपनी विनम्रता बनाये रखने में ही लाभ है. रिश्तों को संभालना भी इसी वजह से आसान हो जायेगा.
क्या न करें – कारण कोई भी क्यों न हो लेकिन अपनी तकदीर को कोसते न चले जाएँ. ऐसा भी न सोचें की ज़िन्दगी में कोई कमी रह गई है. हमेशा असंतुष्ट रहना भी ठीक नहीं है.

धनु (Sagittarius) – बहुत ज्यादा सोचेंगे तो कोई न कोई चीज़ आपको परेशान भी करेगी, इसलिए अपने रिश्तों को भी बहुत ध्यानपूर्वक ही संभालना पड़ेगा.
क्या करें – कामकाज की एहमियत को समझें और अपनी अच्छी बनी हुई परिस्थिति में व्यर्थ का बदलाव लाने से पहले फिर सोच लें. तभी जाकर हालात पकड में रहेंगे.
क्या न करें – किसी भी तरह के नकारात्मक विचारों को अपने ऊपर हावी न होने दें. ज़िन्दगी में पीठ पीछे हमेशा ऐसा कुछ न कुछ बना रहता है जो आपको परेशान करता है, लेकिन ऐसे में अपने मन को व्यर्थ में दुखी न करते चले जाएँ.

मकर (Capricorn) – कुल मिलाकर हालात मददगार हैं लेकिन घर-परिवार से जुडी चुनोतियाँ बनी रह सकती हैं. कुछ न कुछ ऐसा चल रहा है जिसमे आपको और ज्यादा झूझना पड़ेगा. अपनों की सेहत की ओर भी ध्यान देने की ज़रूरत पड़ सकती है. ज़िन्दगी को इतना भी आसान न समझें.
क्या करें – रिश्तों की एहमियत समझेंगे तो लोगों के लिए कुछ कर पाएंगे, अपने मन को भी इसी रूप से ढालना होगा की आपकी ज़िन्दगी का तालमेल बना रहे. किसी भी परिस्थिति में अपने कदम पीछे हटाने से तो बचना ही होगा.
क्या न करें – पैसे को लेकर अपने मन में किसी भी तरह की घबराहट न पैदा करें, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है की अपने खर्चों को बेकाबू हो जाने दें. सही योजना बनाये बिना कोई कदम उठाना ठीक नहीं होगा.

कुम्भ (Aquarius) – किसी रिश्ते को आगे बढ़ाने का सुंदर समय है बना हुआ है. छुटपुट उतार-चढ़ाव बने रहें यह जीवन का एक नियम है.
क्या करें – कामकाज को स्थिरता की नजर से और सुकून की नजर से देखना होगा. ज़िन्दगी की खुशियाँ इस रूप से बनेगी तो हर चीज़ अच्छी लगेगी. सच्चाई यह की आप अपनी मेहनत से बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं.
क्या न करें – किसी भी वजह से विचारों के मतभेद को बढने न दें. पूरी जानकारी लिए बिना किसी भी तरह का फैसला बिलकुल न करें.

मीन (Pisces) – घर-परिवार में तालमेल बनाये रखने की कोशिश करनी होगी. लोग अगर आपसे खुश नहीं है तो उनकी बात को समझना भी पड़ेगा. बनते बिगड़ते हालात की ओर एक नजर रखने की ज़रूरत है.
क्या करें – तकदीर की भूमिका इस रूप से बन रही है की आप कुछ अच्छा कर सकें, लेकिन असमंजस यह है की क्या आप वो कर पाएंगे, आप कुछ ऐसा ही सोचते चले जा रहे हैं.
क्या न करें – अपने बड़े बुजुर्गों की बात में किसी भी तरह की गलती न निकालें. अगर वो आपको कुछ समझाना चाह रहे हैं तो इस बात को भी समझ लें. आलोचनात्मक रवैया बनाये रखना भी ठीक नहीं है.

No comments:

Post a Comment

Please do not post any message with links. It will not be approved.