Consult Jyotishguru Deepak Kapoor
to guide your destiny and karma.
Log on to www.Jyotishguru.com




Monday, December 11, 2017

Monday 11th December 2017, Vedic Astrology Forecast, Rashiphal

मेष (Aries) – जब इंसान परेशानियों से घिर जाए तो उसका असर जाने अनजाने रिश्तों पर भी आ जाता है और ऐसे में लगता है जैसे ज़िन्दगी रुक गयी है. चुनोतियों से रूबरू होने का यही समय है.
क्या करें – जो भी परेशानियाँ आपकी ज़िन्दगी में वापिस आ चुकी हैं उस ओर एक बार फिर देख लें ताकि उन्हें दूर किया जा सके. खासकर अगर आपकी कोशिशें बिखर गयी हैं तो उन्हें वापिस पटरी पर लाने का प्रयास तो करना ही पड़ेगा.
क्या न करें – ऐसा न सोचें की सबकुछ ख़राब है. कामकाज का क्षेत्र ऐसा है जो आपको प्रेरणा दे सकता है, पर रिश्तों को सम्भालने में इस समय कोई गलती न करें.

वृषभ (Taurus) – अपनी की जरूरतों को समझना होगा और अपनों से जुड़े भी रहना होगा, तभी जाकर आप वो उम्मीद कर पाएंगे की लोग भी आपकी बात को समझें.
क्या करें – अगर किसी प्यार के रिश्ते को आगे बढाने का विचार है तो पहले दृढ निश्चय कर लें तब जाकर अपने बड़े बुजुर्गों को उसमें involve करें.
क्या न करें – कामकाज से जुड़े जो भी कर्तव्य हैं उन्हें निभाने में कोई कमी न रखें. अगर कोई भी चीज़ आपको परेशान कर रही है तो आप कोई व्यर्थ का खतरा मोल न लेते चले जाएँ.

मिथुन (Gemini) – मतभेद के कई सारे कारण हो सकते हैं और लोगों की नाराजगियां भी सहनी पड़ सकती हैं. ऐसे में अगर आप भी लोगों से उलझते चले जायेंगे तो फिर गलती आपकी है.
क्या करें – निजी जीवन में तालमेल तो बनाना ही पड़ेगा और जिस भी काम में जुड़े हुए हैं उसमे एकाग्रता बनाये रखने की भी जरूरत पड़ेगी ताकि आपकी अच्छाई को लोग समझ सकें.
क्या न करें – अगर आपके साथी सहयोगी किसी भी वजह से आपकी बात को नहीं समझ पा रहे तो इस स्तिथि को आप और ज्यादा जटिल न बनाएं, बल्कि अपनी कमियों को सुधारने के लिए अपने प्रयास बढ़ा दें ताकि हर पीठ पीछे छुपी हुई बात आपको परेशान न करती चली जाए.

कर्क (Cancer) – किसी प्यार के रिश्ते को आप अपनी ज़िन्दगी का स्थायी हिस्सा बनाना चाह रहे हैं, पर उससे जुडी हुई परेशानियाँ बहुत सारी हैं. सबसे बड़ी परेशानी यह है की आपके अपने ही विचार अस्थिर हैं.
क्या करें – जो पहले फासले बन गए थे अब उन्हें नजदीकियों में बदलने की कोशिश करनी होगी. अपनी बात कहने से ही आप अपनी ईमानदारी को लोगों तक पहुँचा पाएंगे.
क्या न करें – चाहे कामकाज हो या घर-परिवार की खुशियाँ, ज़िन्दगी का तालमेल बनाये रखने में किसी भी तरह की कमी न रखें. किसी भी एक क्षेत्र को ज्यादा बढ़ावा देकर किसी दुसरे क्षेत्र को हानि न पहुंचाएं.

सिंह (Leo) – निजी जीवन की खुशियाँ इस बात पर निर्भर करेंगी की आप अपनों की बात का कितना मान रखते हैं और उनको कितना समझने की कोशिश करते हैं. हर तरह की अच्छी सम्भावना बनी हुई है बशर्ते आप इस बात को अपने जीवन में उतारना चाहें.
क्या करें – अपने पैसे का और समय का निवेश सिर्फ ज़मीन-जयदाद में नहीं होता, रिश्तों में भी होता है और अगर आपको ऐसा करना है तो अपने अंदर एक एकाग्रता लानी होगी, तभी जाकर रिश्तों की पूरी अच्छाई आपको समझ में आएगी.
क्या न करें – किसी भी तरह का शक रिश्तों की नींव हिला सकता है. आपके लिए भी कोई प्यार का रिश्ता इसी दुविधा से गुजर रहा है इसलिए अपने रिश्तों को बिगाड़ने की किसी भी तरह की गलती न करें.

कन्या (Virgo) – बातचीत करने से ही बात बनेगी और अपनी communication में पारदर्शिता भी लानी होगी, तभी जाकर लोगों की नाराजगियां दूर हो पाएंगी.
क्या करें – कामकाज को आगे बढाने के इस समय एक ही रास्ता है. अपने मन में उठते हुए तूफ़ान को थाम लें और अपने फोकस को बेहतर कर लें.
क्या न करें – उन परेशानियों को किसी भी तरह से अपने ऊपर हावी न होने दें जो आपके निजी जीवन की खुशियों को इस समय कम कर सकती है, इसलिए रिश्तों को समझने में किसी भी  तरह की कमी न रखें.

तुला (Libra) – आपके पैसे की स्तिथि इस बात पर निर्भर करेगी की आप अपनी बचत को कितना संभाल पाते हैं, पर आपकी मनस्थिति कुछ ऐसी चल रही है की आप बहुत उत्तेजित होकर फैसले ले रहे हैं.
क्या करें – फिर से वही गलतियाँ होने को हैं जो आपने पहले भी की थी, इसलिए किसी भी तरह का कदम उठाने से पहले एक बार फिर सोच लें. इस बात को समझ लें की ज़ल्दबाज़ी में किये गए फैसले गलत भी हो सकते हैं.
क्या न करें – आपकी मेहनत इस समय बहुत बड़ा काम कर सकती है, इस बात को समझने में कोई गलती न करें. अगर अपनी क्षमताओं को और संवारना है तो अपनी मेहनत को किसी भी वजह से कम न होने दें.

वृश्चिक (Scorpio) – कामकाज में आपकी लगन बढ़ रही है और उसके अच्छे नतीजे भी प्राप्त हो रहे हैं, पर बहुत कुछ ऐसा है जो आपकी पकड़ में नहीं आ रहा इसलिए बहुत कुछ unplanned तरीके से होता चला जा रहा है.
क्या करें – अपने पैसे की स्तिथि को सम्भाले रखना इस समय की सबसे बड़ी प्राथमिकता है. रोजमर्रा की चुनोतियाँ बनी रहना एक सच्चाई है, वैसे भी आपको उन चुनोतियों से झूझने की आदत है.
क्या न करें – अपनी मेहनत से जो लाभ मिल रहा है उसे किसी भी वजह से बर्बाद न होने दें इसलिए अपनी बचत से खिलवाड़ करना इस समय ठीक नहीं होगा.

धनु (Sagittarius) – कोई बड़ा फैसला करने से या कोई बड़ा परिवर्तन से तो फिलहाल आपको बचना ही होगा. यह समय ही कुछ ऐसा है जो आपके लिए कई तरह के दबाव बढ़ा रहा है इसलिए उन्हें भी एक-एक करके सँभालने की जरूरत पड़ेगी.
क्या करें – कामकाज में प्रति आपका रुझान अच्छा है पर मन का भटकाव ऐसा है जो आपको अपनी मंजिल तक पहुँचने नहीं दे रहा. हर चीज़ को बदलाव के रूप से देखना भी ठीक नहीं है.
क्या न करें – अपनी मेहनत के खिलाफ सवाल न खड़े करें और कुछ भी ऐसा न करें जिसके चलते किसी का भी दिल दुखे.

मकर (Capricorn) – कामकाज से भी लाभ बना हुआ है और हालात भी मददगार हैं. अचानक लाभ की परिस्थितियां भी बन सकती हैं.
क्या करें – आप कुछ ऐसा चाह रहे हैं की आपके लिए सबकुछ अपने आप संवरता चला जाए. अच्छी बात यह है की हालात भी इसी रूप से मददगार हैं, फिर भी अपने सपनों को साकार करना है तो उसमे अपने योगदान को तो जोड़ना ही पड़ेगा.
क्या न करें – पैसा कमाना भी अच्छी बात है और पैसा खर्च करना भी अच्छी बात है, पर पैसा बर्बाद करना ठीक नहीं है, इसलिए अपनी तकदीर को इतना भी आजमाने की कोशिश न करें की आपको कोई नुकसान हो जाए.

कुम्भ (Aquarius) – कामकाज की स्तिथि मददगार है क्योंकि लोग भी आपकी सहायता करना चाह रहे हैं. हालात मददगार हैं और परिस्थितियां भाग्यशाली बनी हुई हैं.
क्या करें – अपनी परेशानियों की ओर देखते रहेंगे तो परेशानियाँ बार-बार उभरती चली जाएँगी, इसलिए अपनी नकारात्मकता को हटाकर यह सोचें की आप क्या कर सकते हैं और क्या कुछ पा सकते हैं.
क्या न करें – हालात आपके पक्ष में बने हुए हैं पर पैसे से जुड़े फैसलों में किसी भी तरह के दबाव में बिलकुल न आयें, ऐसे में लोगों की बातों में आकर अपना नुकसान कर लेना ठीक नहीं होगा.

मीन (Pisces) – आप के सामने बनती हुई परिस्थितियां कुछ ऐसी हैं की सबकुछ अच्छा लग सकता है, लेकिन उसके पीछे छुपी हुई चुनोतियाँ बहुत सारी हैं, इसलिए किसी भी चीज़ को आसान न समझें.
क्या करें – आपको अपनों से हर तरह की मदद प्राप्त है पर आपकी उम्मीदें कुछ ज्यादा हैं, इसलिए आपको कभी-कभी लगता है की वो मदद उतनी नहीं मिल रही जितनी की मिलनी चाहिए. उम्मीदें उतनी लगायें जितनी की जरूरत हो.
क्या न करें – कामकाज को बेहतर करना है तो पैसा भी लगेगा और मेहनत भी लगेगी, पर काम या कारोबार में हद से ज्यादा पैसा भी न लगायें. कहीं ऐसा न हो की वो भी एक नुकसान का ही रूप बनता चला जाए.

No comments:

Post a Comment

Please do not post any message with links. It will not be approved.