Consult Jyotishguru Deepak Kapoor

Personal appointments with

Jyotishguru Deepak Kapoor

are on hold for the time being

You can have a telephonic consultation

Place your order for “Astrotalk”

at www.jyotishguru.com

Your appointment will be scheduled

at the earliest


We will soon be starting live online classes covering various aspects of Vedic Astrology. Jyotishguru Deepak Kapoor will be hosting these sessions live on Zoom or an alternate platform.
There will be different modules catering to a
variety of interests - from basics of Vedic Astrology, casting of a Horoscope, Predictive Astrology and advanced topics.

If you wish to register, please send an email to info@jyotishguru.com with your details including Name, Age and Location. Please also provide a brief background to yourself including your profession, existing level of understanding of Vedic Astrology and any other associated interest.

We will contact you with further details
closer to the launch of these sessions.


Friday, October 4, 2019

राशी 03 अक्टूबर 2019, बृहस्पतिवार
आज 03 अक्टूबर 2019 है और बृहस्पतिवार का दिन
श्री विक्रमी संवत 2076 है और शक संवत 1941
अश्विन मास चल रहा है और शुक्ल पक्ष
पंचमी तिथि है सुबह 10 बजकर 12 मिनट तक और उसके बाद षष्ठी तिथि है.
अनुराधा नक्षत्र है दोपहर 12 बजकर 10 मिनट तक और उसके बाद ज्येष्ठा नक्षत्र है.
चंद्रमा चल रहे हैं वृश्चिक राशि में. आज गंडमूल है दोपहर 12 बजकर 10 मिनट से.
शुक्र तुला राशि में प्रवेश कर रहे हैं देर रात 05 बजकर 14 मिनट पर.

माँ दुर्गा का पांचवां स्वरुप है स्कंध माता
नवरात्रि के पाँचवें दिन स्कंध माता की पूजा-अर्चना की जाती है। कहते हैं कि इनकी कृपा से मूढ़ भी ज्ञानी हो जाता है। स्कंद कुमार कार्तिकेय की माता होने के कारण इन्हें स्कंदमाता कहते हैं। भगवान स्कंद बालरूप में इनकी गोद में विराजमान हैं। इस देवी की चार भुजाएं हैं।
यह दायीं तरफ की ऊपर वाली भुजा से स्कंद को गोद में पकड़े हुए हैं। नीचे वाली भुजा में कमल का पुष्प है। बायीं तरफ ऊपर वाली भुजा में वरदमुद्रा हैं और नीचे वाली भुजा में कमल पुष्प है। इनका वर्ण एकदम शुभ्र है। यह कमल के आसन पर विराजमान रहती हैं। इसीलिए इन्हें पद्मासना भी कहा जाता है। सिंह इनका वाहन है।
इनकी उपासना से भक्त की सारी इच्छाएं पूरी हो जाती हैं। भक्त को मोक्ष मिलता है। मन को एकाग्र रखकर और पवित्र रखकर इस देवी की आराधना करने वाले साधक या भक्त को जीवनरूपी इस भवसागर को पार करने में कोई कठिनाई नहीं आती

मेष (Aries) ज़िन्दगी की रुकावटों की वजह से आपको कामकाज की स्तिथि भी कमज़ोर लगनी शुरू हो गयी है पर बहुत हद तक आपके मन की बनाई हुई दुविधाएं हैं. जिसकी वजह से आप निजी जीवन की चिंताओं को भी पूरी तरह से संभाल नहीं पा रहे.
क्या करें – यथास्थिति बनाये रखने से बहुत सारी चीज़ें सम्भलेंगी और किसी भी तरह का बदलाव करने से नुकसान होता चला जाएगा जिसकी वजह से आपकी रुकावटें बढ़ेंगी, तो एक चीज़ से दूसरी चीज़ जुडी हुई है. पहले से ही सतर्क रहकर चलने से अपने हालात को सँभालने में मदद मिल सकती है.
क्या न करें – ज़िन्दगी की चुनोतियाँ हम सबके लिए बनी हैं लेकिन ऐसे में घर-परिवार से जुड़े सुख को किसी भी वजह से कम न करते चले जाएँ. लोगों के प्रति इतना आलोचनात्मक न हो जाएँ की आप सिर्फ लोगों की गलतियाँ ही निकालते चले जाएँ.

वृषभ (Taurus) अपनी कोशिशें कम हो जाएंगी तो कामकाज को संभालना और भी मुश्किल होता चला जाएगा, फिर आपको इस बात का आभास होगा की लोग भी आपका गलत फायदा उठाना चाह रहे हैं. अपने व्यवहार को थोड़ा सा व्यवहारिक बनाने से आप अपनी मुश्किलों को समझ भी पाएंगे और संभाल भी पाएंगे. ऐसे में काम के प्रति अपनी तवज्जो को तो बढ़ाना ही पड़ेगा.
क्या करें – पैसे से जुड़े फैसले अपनी क्षमताओं के अनुरूप लेने होंगे और अपनी उम्मीदों को भी अपनी क्षमताओं से ही ढालना होगा. ज़िन्दगी का एक बहुत बड़ा लक्ष्य होता है की इंसान खुश रहे और ख़ुशी बनाये रखने के लिए अपनी बढती हुई इच्छाओं को तो थामना ही पड़ेगा.
क्या न करें – अपने प्रियजनों से कोई ऐसा तकरार न बढ़ाएं जिसमें आपकी गलतियाँ भी उजागर होती चली जाएँ. किसी से कोई चुभती हुई बात कहकर आप अपनी मुश्किलों को कहीं बढाते न चले जाएँ.
उपाय – वृषभ राशि वालों के लिए ख़ास उपाय यह है जी की आने वाले चार शनिवार को किसी भी मंदिर में जाएँ ताकि अपनी परेशानियों को सँभालने के लिए आप थोड़ा सा मनन कर सकें. किसी भी बात को पूरी तरह से समझने के लिए मन में धैर्य बनाये रखने की जरूरत पड़ती है और मंदिर में थोड़ा सा समय व्यतीत कर लेने से ऐसा करना आसान भी हो सकता है.

मिथुन (Gemini) कामकाज से जुड़ी कई तरह की मुश्किलें हैं जिसकी वजह से आपको लाभ नहीं नज़र आ रहा और अगर लाभ बन भी रहा है तो वो भी किसी न किसी समस्या को सुलझाने के लिए खर्च होता चला जा रहा है.
क्या करें – काम और कारोबार में और अपने साथी-सहयोगियों को सँभालने में आपका योगदान बना रहना चाहिए. कामकाज से जुडी बनती बिगडती स्तिथि का असर आपके घर-परिवार के रिश्तों पर भी पड़ सकता है, इसलिए भी विनम्रता बनाये रखने से लाभ हो सकता है. अपने मन को उचाट करने से मुश्किलें ही हाथ लगती हैं.
क्या न करें – किसी एक चीज़ में इतना ज्यादा पैसा न लगाएं की आपको नुकसान होना शुरू हो जाए और किसी एक रिश्ते को इतना ज्यादा बढाने की कोशिश न करें की कोई दूसरा रिश्ता कमज़ोर पड़ता चला जाए, इसलिए तालमेल बनाये रखें ताकि कोई कमी न रहे.

कर्क (Cancer) रिश्तों के प्रति आप समर्पित हैं पर आपकी उम्मीदें टूटती चली जा रही हैं. लोगों से समर्थन भी नहीं मिल पा रहा और आपका अपना भरोसा भी ऐसा है जो बिखरता चला जा रहा है.
क्या करें – आपसी तालमेल बनाये रखने से हालात आपकी मदद जरूर करेंगे इसलिए थोड़ा सा अपने मन को भी समझाना पड़ेगा ताकि रिश्तों के प्रति आपका ध्यान बना रहे, पर सबसे बड़ी जरूरत यह पड़ेगी की अपनी मानसिकता को थाम लिए जाए ताकि आप किसी भी तरह के अविश्वास से बच सकें.
क्या न करें – कामकाज को बढ़ावा देना है तो मेहनत के अलावा कोई और विकल्प नहीं है. अच्छी बात यह है की आपके अंदर हर तरह की क़ाबलियत है जिसे आप इस्तेमाल कर सकते हैं.

सिंह (Leo) पढाई-लिखाई से आपका मन हटता चला जा रहा है और आप सिर्फ बड़े सपने देखकर ऐशोआराम की ज़िन्दगी बिताना चाह रहे हैं और यही इस समय की सबसे बड़ी गलती है.
क्या करें – घर-परिवार की खुशियों को बनाये रखने के लिए बहुत सारी चीज़ें करनी होंगी. जो भी मौका मिले उसमें अपनों के करीब आना होगा और जो भी पुरानी रंजिशें हैं उन्हें भी संभालना होगा, पर सबसे बड़ी जरूरत यह पड़ेगी की आप अपने बढ़ते हुए रोष को थाम लें.
क्या न करें – तकदीर से कोई ऐसी उम्मीद न लगाएं की सब कुछ अपने आप ठीक हो जाएगा. कामकाज से लाभ बना हुआ है और कामकाज में समर्पण भी बना हुआ है, पर किसी भी चीज़ को बहस का मुद्दा न बनने दें.

कन्या (Virgo) किसी ज़मीन जयदाद से जुड़े मसलों में झूझना पड़ सकता है और अगर कोई कानूनी पेचीदगियां हैं तो उन्हें भी सँभालने की कोशिश करनी पड़ सकती है. बेहतर यह होगा की बातचीत के माध्यम से ही उन समस्याओं का समाधान ढूंढ लिया जाए.
क्या करें – लोगों से बात करें और किसी नतीजे पर पहुँचने की कोशिश करें, हो सकता है ऐसे में आपको लोगों से अच्छी सलाह मिल जाए और अपनी आर्थिक स्तिथि को सँभालने में भी मदद मिल जाए. किसी भी झगड़े को बढाने से बेहतर यह होगा की शान्ति से उस मसले को संभाल लिया जाए.
क्या न करें – इस समय कोई नया खेल खेलने की कोशिश न करें क्योंकि बहुत सारी छुपी हुई चुनोतियाँ हैं जो आपको मुश्किलों में डाल सकती हैं, इसलिए कुछ भी ऐसा न करें जो आपकी अपनी गलती की वजह से आपके नुकसान को बढाता चला जाए.

तुला (Libra) आपके अंदर हर तरह की योग्यता है जिसे आप बखूबी इस्तेमाल कर सकते हैं पर उसके लिए आपको खुद पर भरोसा करना होगा. कोशिश करके देखें और आप देखेंगे की अविश्वास के बादल धीरे-धीरे छटते चले जाएंगे.
क्या करें – काम के प्रति लगन पैदा करने की जरूरत है ताकि उसी अनुपात में आपकी मेहनत भी उभरकर आए और यह ऐसा क्षेत्र है जिसे संभालना आसान है पर अपनी आर्थिक स्तिथि को सँभालने में आप असमर्थ होते चले जा रहे हैं.
क्या न करें – लोगों की बात सुन लेना अच्छी बात है पर लोगों की बातों में आते चले जाना ठीक नहीं है. यह समय ही कुछ ऐसा है जो लोग अपने हित की बात करें जिसकी वजह से आपको नुकसान होता चला जाए, इसलिए ऐसा कुछ न करें जिसके चलते आपको बाद में पछताना पड़े.

वृश्चिक (Scorpio) कई तरह के अच्छे विकल्प हैं आपके सामने पर आपको बहुत सारी विनम्रता बरतनी होगी. अपने हालात को किसी कमी की वजह से देखने की बजाए अच्छाई के रूप में देखना होगा तब आपको इस बात का आभास होगा की आप बहुत सारा रास्ता तय करके आए हैं जो आपकी खुशियों को बनाये रख सके.
क्या करें – अपनी सूझबूझ को इस्तेमाल करने से कई सारी चीज़ें संभल सकती हैं और काम से लाभ बनाये रखा जा सकता है. मुश्किल यह है की आपका मन उचाट होता चला जा रहा है और उसी चीज़ को फिलहाल संभाले रखने की जरूरत है.
क्या न करें – सेहत को नज़रंदाज़ बिलकुल न करें इसलिए काम में भी इतने ज्यादा व्यस्त न हो जाएँ की उसका बुरा असर आपकी सेहत पर पड़ता चला जाए. अपनी गलतियों को पूरी तरह से न समझना और खुद को सही साबित करते चले जाना भी ठीक नहीं होता.

धनु (Sagittarius) मन परेशान रहेगा तो आप गलती करते चले जाएंगे और आपको नई संभावनाएं भी समझ नहीं आएँगी, जबकि जरूरत यह है की अपने मन को साफ़ कर लिया जाए और हर ऐसे विकल्प के बारे में ध्यानपूर्वक सोचा जाए जो आपके सामने नई दिशाएं खोल रहा है.
क्या करें – किसी भी तरह के स्थान परिवर्तन से बचना होगा और किसी भी तरह की उत्तेजना के तहत गलती हो सकती है इस बात को भी समझना होगा. अपनी कमियों की ओर देखेंगे तभी इस समय की मुश्किलों को संभाल पाएंगे.
क्या न करें – कामकाज के क्षेत्र में आपका प्रदर्शन भी अच्छा है और हालात भी मदद कर रहे हैं, पर अपने अंदर किसी भी तरह की अविश्वास की भावना लाने से नुकसान ही होता है, इसलिए अपने विचारों को बहुत ज्यादा नकारत्मक न बनाते चले जाएँ.

मकर (Capricorn) लोगों पर आप भरोसा नहीं कर पा रहे और सोच रहे हैं की लोगों की वजह से आपकी मुश्किलें बढ़ी हुई हैं, जबकि यह समय कुछ ऐसा दर्शा रहा है की आपकी मुश्किलें आपकी अपनी गलतियों की वजह से बढी हुई हैं, जिस ओर आपको ध्यान तो देना ही पड़ेगा. एक-एक बात को ध्यानपूर्वक समझेंगे तभी उसका समाधान भी संभव हो पायेगा.
क्या करें – अपनी कोशिशों को बढ़ाना है तो अपने अंदर जूनून की भावना लानी होगी. कामकाज की स्तिथि इस समय मध्यम हो सकती है पर फिर भी हालात मददगार हैं, इसलिए अपनी एकाग्रता को बढाते चले जाने से लाभ जरूर होगा.
क्या न करें – आपकी आर्थिक स्तिथि कुछ ऐसी है जो आपकी रोज़मर्रा की जरूरतों को पूरा कर रही है और यह भी बहुत बड़ा आशीर्वाद है. ऐसे में अपनी बचत को किसी खतरे में डालते चले जाना भी ठीक नहीं है.

कुम्भ (Aquarius) धन का आगमन कई रूप से और कई वजह से बन सकता है और नुकसान भरी परिस्थितियों से भी कोई न कोई लाभ उभरकर आ सकता है, यह बहुत बड़ी बात है. ऐसे में अपने दोस्तों से तालमेल बनाए रखने की भी जरूरत पड़ सकती है.
क्या करें – पैसे की जरूरतें बढ़ रही हैं जिसके लिए अपको पैसा जुटाने की भी जरूरत पड़ सकती है पर इस बात को समझ लें की जिस भी काम से जुड़े हुए हैं उसमे दबाव बने रहना स्वाभाविक सी बात है. मन में थोड़ी सी शांति बनाये रखने से बढती हुई पैसे की जरूरतों को संभालना भी आसान हो सकता है.
क्या न करें – अगर आप चाहते हैं की तकदीर आपका साथ दे तो अपनी कोशिशों को किसी भी वजह से कम न होने दें. इस बात को याद रखें की अपनी मेहनत के बलबूते पर ही इंसान बहुत कुछ कर पाता है और बहुत कुछ उपलब्धियों के रूप में हासिल कर पाता है. ऐसे में घर-परिवार के रिश्तों को कमज़ोर करते चले जाना भी ठीक नहीं है.

मीन (Pisces) काम को लेकर बहुत सारा असंतोष है आपके मन में, जबकि कोई ऐसी बड़ी कमी नहीं है जिसकी वजह से अप परेशान हो रहे हैं. यह आपके मन में बनाई हुई नकारात्मकता है जो आपको चिंताओं में डाले हुए है.
क्या करें – अपनी अच्छाई को भलीभांति परखने की कोशिश कर लें ताकि जिस भी काम से जुड़े हुए हैं उसमें आप अपना धैर्य बनाए रख सकें. लोगों की इच्छाओं और आकाँक्षाओं को भी समझने की और पूरा करने की कोशिश कर लें. इसी तालमेल को बनाये रखना ही ज़िन्दगी का दूसरा नाम है.

क्या न करें – अपनी बचत को कहीं फंसाते न चले जाएँ. एक ओर तो आपकी जरूरतें बढ़ रही हैं दूसरी ओर अगर आपके फैसले गलत हो जाएंगे तो पैसे का लेनदेन कठिन होता चला जाएगा. और इस समय ऐसी कोई स्तिथि न उभरने दें जो आपको किसी जोखिम में डालती चली जाए.

No comments:

Post a Comment

Please do not post any message with links. It will not be approved.